Home Current Affairs ( History ) विश्व की सबसे शक्तिशाली इमारत - व्हाइट हाउस ?

विश्व की सबसे शक्तिशाली इमारत – व्हाइट हाउस ?

जानिए आज की खास बात?


अमेरिका में राष्ट्रपति का आधिकारिक निवास?

दुनिया के लगभग हर देश में राष्ट्रपतियों के रहने के लिए एक आधिकारिक निवास बनाया गया है। भारत में, इसे राष्ट्रपति भवन के रूप में जाना जाता है, लेकिन अमेरिका में, राष्ट्रपति भवन को व्हाइट हाउस कहा जाता है। हालांकि इसे हमेशा व्हाइट हाउस नाम नहीं दिया गया था। जब इसे बनाया गया था, तब इसे राष्ट्रपति का महल या राष्ट्रपति की हवेली का नाम दिया गया था।

जानिए व्हाइट हाउस के बारे में-

 दरअसल, इसके पीछे 118 साल पुराना इतिहास छिपा है, जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए। व्हाइट हाउस न केवल अमेरिकी राष्ट्रपति का निवास है, बल्कि यह अमेरिका की ऐतिहासिक विरासत की उत्कृष्ट कृति भी है।

व्हाइट हाउस में वह हर सुविधा है जो किसी भी शक्तिशाली देश के पास रहने की उम्मीद है। इसके अंदर एक बंकर भी है, जिसका इस्तेमाल संकट के समय अमेरिकी राष्ट्रपति और उनके परिवार को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है।

व्हाइट हाउस के वास्तुकार?

आयरलैंड में पैदा हुए जेम्स होबन ने व्हाइट हाउस को डिजाइन किया था। इसका निर्माण कार्य 1792 से 1800 के बीच आठ साल में पूरा हुआ था। आपको जानकर हैरानी होगी कि आज व्हाइट हाउस जहां खड़ा है, वहां कभी जंगल और पहाड़ थे।

व्हाइट हाउस में 132 कमरे, 35 बाथरूम, 412 दरवाजे, 147 खिड़कियां, 28 फायरप्लेस, 8 सीढ़ियां और तीन लिफ्ट हैं। छह मंजिला इस इमारत में दो बेसमेंट, दो पब्लिक फ्लोर और बाकी फ्लोर अमेरिकी राष्ट्रपति के लिए रिजर्व किए गए हैं। इसके अलावा, व्हाइट हाउस पांच पूर्णकालिक रसोइयों को नियुक्त करता है और इमारत के अंदर 140 मेहमानों के लिए रात्रिभोज परोसता है।

व्हाइट हाउस की बाहरी दीवारों को पेंट करने में 570 गैलन पेंट लगता है। बताया जाता है कि साल 1994 में व्हाइट हाउस को पेंट करने में दो लाख 83 हजार डॉलर यानी करीब एक करोड़ 72 लाख रुपये से ज्यादा का खर्च आया था।

अमेरिकी राष्ट्रपति भवन का नाम व्हाइट हाउस रखने के पीछे क्या कहानी है?

साल 1814 में ब्रिटिश सेना ने वाशिंगटन डीसी में कई जगहों पर आग लगा दी थी। इसमें व्हाइट हाउस भी शामिल था। इस आग के कारण इसकी दीवारों की सुंदरता खत्म हो गई थी, जिसके बाद इमारत को फिर से आकर्षक बनाने के लिए इसे सफेद रंग से रंग दिया गया था। तभी से इसे व्हाइट हाउस कहा जाने लगा।

वर्ष 1901 में अमेरिका के 26वें राष्ट्रपति थियोडोर रूजवेल्ट ने आधिकारिक तौर पर इसका नाम व्हिस हाउस रखा।